science class 10th long answer question| Bihar Board

Class 10 Science|Long Answer questions|Bihar Board 2024| Alok Official

नमस्ते🙏

जय हिंद🇮🇳

आप सब के बेहतर तैयारी के लिए Alok Official

हर पल आपके साथ है । सिर्फ गूगल पर सर्च करें

alokofficial.com बिहार बोर्ड वार्षिक परीक्षा

2023 के दृष्टिकोण से नये पैटर्न पर सभी सम्भावित

ऑब्जेक्टिव और सब्जेक्टिव प्रश्न उत्तर का तैयारी

हमारे द्वारा कराया जाता है । इस भाग में हम वर्ग

दस के दीर्घ उत्तरीय प्रश्न उत्तर का विश्लेषण करेंगें ।

यदि आप सभी कंटेंट को तैयार करके जाते हैं तो

80% अंक निश्चित है ।

Class 10 science long answer questions 2024

1• दृष्टि दोष क्या है ? सभी प्रकारों का निवारण सहित सचित्र वर्णन करें ।
उत्तर– जब नेत्र किसी वस्तु को अस्पष्ट या पूर्णतः देखना बन्द कर देता है तो इस परिस्थिति को दृष्टि दोष कहते हैं ।

▪ यह 4 प्रकार का होता है ।

a) निकट दृष्टि दोष/ मायोपिया:

वह नेत्र दोष जिसमें व्यक्ति दूर की वस्तु को अस्पष्ट या पूर्णतः नहीं देख पाता है निकट दृष्टि दोष कहा जाता है । इस दोष के निवारण में अवतल लेंस का उपयोग किया जाता है ।

b) दूर दृष्टि दोष:

वह दृष्टि दोष जिसमें मनुष्य निकट की वस्तु को अस्पष्ट या पूर्णतः नहीं देख पाता है, दूर दृष्टि दोष कहलाता है ।

इस दोष के निवारण में उत्तल लेंस का उपयोग किया जाता है ।

c) जरा दूरदर्शिता/ जरा दूरदर्शिता:

वह दृष्टि दोष जिसमें नेत्र निकट बिन्दु और दूर बिंदु का सामंजन नहीं कर पाता है, जरा दृष्टि दोष कहलाता है । इस दृष्टि दोष के निवारण के लिए द्विफोकसी

(bifocal) लेंस का उपयोग किया जाता है ।

d) अबिंदुकता– इसका निवारण

बेलनाकार लेंस के द्वारा किया जाता है ।

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


2• तंत्रिका कोशिका का सचित्र वर्णन
करें ?
उत्तरतंत्रिका तंत्र की रचनात्मक और

कार्यात्मक इकाई को तंत्रिका कोशिका

या न्यूरॉन कहते हैं । तंत्रिका कोशिका

तीन प्रकार का होता है –

a) संवेदी तंत्रिका कोशिका

b) प्रेरक तंत्रिका कोशिका

c) बहुध्रुवी तंत्रिका कोशिका

3• अयस्क क्या है ? इसके सांद्रण
विधि का वर्णन करें ।
उत्तर– वह खनिज जिससे शुद्ध धातु

आसानी से कम व्यय में प्राप्त किया

जा सके, अयस्क कहलाता है ।

इसका सांद्रण मुख्यतः तीन विधि

द्वारा किया जाता है –

a) जारण/भर्जन- मध्यम या निम्न

अभिक्रियाशील धातु का सल्फाइड अयस्क का सांद्रण इस विधि द्वारा

किया जाता है ।

b) निस्तापन– मध्यम अभिक्रियाशील

धातु का कार्बोनेट अयस्क का

सांद्रण इस विधि द्वारा किया जाता है ।

c) वैधुत अपघटन– उच्च अभिक्रियाशील

धातु के अयस्क का वैधूत अपघटन

विधि द्वारा सांद्रण किया जाता है ।

(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});


4• अवतल लेंस और उत्तल लेंस में अन्तर स्पष्ट करें ?
उत्तर– अवतल लेंस और उत्तल लेंस में अन्तर निम्नलिखित है-

अवतल लेंस

a) यह दोनों किनारों की अपेक्षा बीच में पतला होता है ।

b) यह प्रकाश किरणें को अपसारित करता है ।

c) इसमें केवल आभासी प्रतिबिंब बनता है ।

d) इसका फोकस आभासी होता है ।

उत्तल लेंस

a) यह दोनों किनारों की अपेक्षा बीच में मोटा होता है ।

b) यह प्रकाश किरणों को अभिसारित करता है ।

c) इसमें आभासी और वास्तविक दोनों प्रतिबिम्ब बनता है ।

d) इसका फोकस वास्तविक होता है ।

5• डायनेमो का कार्यसिद्दांत का सचित्र
विश्लेषण करें ?
उत्तर
सिद्धांत– डायनेमो का कार्य सिद्धांत

विधुत चुंबकीय प्रेरण पर आधारित होता

है । जिसमें चालक में प्रेरित धारा तब

प्राप्त होता है जब इससे संबंधित चुम्बकीय

रेखाओं में परिवर्तन होता है । फ्लेमिंग के

दक्षिण हस्त नियम से उत्पन्न विधुत धारा

की दिशा प्राप्त की जाती है ।
बनावट– इसमें एक शक्तिशाली नाल

चुम्बक होता है जिसे क्षेत्र चुम्बक कहते

हैं, इसके ध्रुवों के बीच क्षैतिज अक्ष पर

घूर्णन करने वाली एक कुंडली होती है ।

इसको आर्मेचर कहा जाता है । इसके ऊपर

कुंडली नर्म लोहे पर लपेटा होता है । इसको

आर्मेचर का क्रोड कहते हैं । आर्मेचर के

तार का छोर पीतल के वलयों से ढ़का

होता है जो इन वलयों द्वारा कार्बन की

पत्तियाँ को हल्का स्पर्श करता है, पत्तियाँ

को ब्रश कहा जाता है जिसके पेंचों से

परिपथ को जोड़ा जाता है ।
कार्यविधि– जब आर्मेचर को घुमाया जाता

है तो कुंडली के अन्दर चुम्बकीय क्षेत्र

परिवर्तित होता रहता है ।प्रत्येक घूर्णन

के आधे चक्र में धारा की दिशा बदल

जाती है । घूर्णन क्रम में कुंडली जब

चुंबकीय बल क्षेत्र के लम्बवत रहती है ।

एक पूर्ण घुर्णन में धारा का मान शून्य से

महत्तम तथा महत्तम से शून्य हो जाता है ।
6) प्रकाश संश्लेषण को कौन कौन से कारक
प्रभावित करता है वर्णन करें ।
उत्तर– प्रकाश संश्लेषण को पाँच कारक प्रभावित

करता है ।

i) प्रकाश: प्रकाश संश्लेषण सूर्य प्रकाश के तीव्रता और

प्रकार पर निर्भर करता है । जैसे- नीली और लाल प्रकाश

किरणों के लिए प्रकाश संश्लेषण उत्तम होता है । वैसे

ही 100 फुट कैंडल से 3000 फुट कैंडल के लिए

प्रकाश संश्लेषण सही रहता है । इससे उच्च तीव्रता पर

यह निष्क्रिय हो जाता है ।

ii) जल: जब जल की कमी होती है तो स्टोमेटा बन्द हो

जाता है जिसके कारण प्रकाश संश्लेषण प्रभावित

होता है ।

iii) आक्सीजन: वैसे तो आक्सीजन की सांद्रता प्रकाश संश्लेषण को प्रभावित नहीं करती लेकिन जब वायुमंडल

में आक्सीजन का मात्रा बढ़ जाता है तो यह क्रिया

धीमा हो जाता है ।

iv) कार्बन डाइऑक्साइड: एक निश्चित सीमा तक

वायुमंडल में इसकी मात्रा बढ़ने से प्रकाश संश्लेषण

बढ़ता है लेकिन जब CO2 ज्यादा बढ़ जाए तब यह

घटता है ।

v) तापमान: 25-30°C ताप प्रकाश संश्लेषण के लिए

उचित रहता है । इससे कम या ज्यादा होने पर यह

प्रभावित होता है ।

Keywords:

🔎matric science long question answer in Hindi 2024

🔎class 10th Science model long
question answer bihar board
2024

🔎बिहार बोर्ड मैट्रिक विज्ञान दीर्घ उत्तरीय
प्रश्न उत्तर 2024

🔎matric science model question answer
2024

🔎bihar board vvi question answer 2024

°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

🚨 बिहार बोर्ड दसवीं और बारहवीं

के लिए कम समय में बेहतर करने के लिए

Alok Official वेबसाइट के सभी पोस्ट

को देखें ।

Alok Official class 12th का भौतिकी,रसायनशास्त्र, हिन्दी, English,

जीवविज्ञान,गणित और दसवीं का विज्ञान,

सामाजिक विज्ञान, हिंदी, संस्कृत

के लिए ऑब्जेक्टिव और सब्जेक्टिव दोनों

का तैयारी करवाता है । कम समय में

बेहतर तैयारी के लिए हमारे साथ जुड़ें रहें ।

यदि आपका कोई सगा-संबंधी दसवीं या

बारहवीं में पढ़ता हो तो उसके साथ

जरुर share करें ।

THANK YOU

°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°°

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Verified by MonsterInsights